Latest News
Category: Film Review
Film Review: अंग्रेजी चलती रहे। हिंदी लागू न हो।

Film Review: अंग्रेजी चलती रहे। हिंदी लागू न हो।

0

अजय ब्रह्मात्मज साकेत चौधरी निर्देशित ‘हिंदी मीडियम’ एक अनिवार्य फिल्म है। मध्यवर्ग की विसंगतियों को छूती इस फिल्म के विषय से सभी वाकिफ हैं, लेकिन कोई इस पर बातें नहीं करता। ...

READ MORE +
Film Review: हाफ है हाफ-गर्लफ्रेंड

Film Review: हाफ है हाफ-गर्लफ्रेंड

0

अजय ब्रहमात्मज शब्दों में लिखना और दृश्यों में दिखाना दो अलग अभ्यास हैं। पन्ने से पर्दे पर आ रही कहानियों के साथ संकट या समस्या रहती है कि शब्दों के दृश्यों में बदलते ही कल्पना ...

READ MORE +
Film Review: नूर में दम नहीं

Film Review: नूर में दम नहीं

0

पाकिस्तानी राइटर सबा इम्तियाज के उपन्यास 'कराची! यू आर किलिंग मी' पर आधारित 'नूर' लंबे एकालाप जैसी है। एक फ्रीलांस इंटरनेट जर्नलिस्ट के नजरिये से मुंबई को देखने की कोशिश भी उबाऊ ...

READ MORE +
Film Review: एक बेगम की अनसुनी दास्तां

Film Review: एक बेगम की अनसुनी दास्तां

0

'बेगम जान' आजादी के दौर की एक ऐसी कहानी है, जो शायद आपने सुनी हो। यह एक बेगम की अनसुनी दास्तां है। ये बेगम अपने कोठे की मालकिन है और रानी की तरह रहती है। अभिनेत्री विद्या बालन ने ...

READ MORE +
Film Review: अधूरी-अधूरी फिल्लौरी

Film Review: अधूरी-अधूरी फिल्लौरी

0

फिल्लौरी क्लीन स्लेट फिल्म्स और फॉक्स स्टार स्टूडियो के सहनिर्माण में बनी है। फिल्म की कहानी पंजाब के 'फिल्लौर' की है। पंजाब में शूट हुई इस फिल्म का निर्देशन अंशाई लाल ने किया है। ...

READ MORE +
Film Review: यहां एक एनकाउंटर है, परतें खुलती हैं

Film Review: यहां एक एनकाउंटर है, परतें खुलती हैं

0

फर्जी एनकाउंटर की कहानियां दर्जनों फिल्मों में दर्ज हैं। यहां भी शुरुआत से सारी परतें खुली हैं और किसी राज से पर्दा उठने को बाकी नहीं रहता, जिससे बड़ा ट्विस्ट आए। इसके बावजूद अगर ...

READ MORE +
KAABIL REVIEW: जो देख नहीं सकते उनको देखना जरूरी है

KAABIL REVIEW: जो देख नहीं सकते उनको देखना जरूरी है

0

निर्देशक संजय गुप्ता ने दो नेत्रहीन लोगों की कहानी को खूबसूरत ढंग से पर्दे पर उतार दिया है। कहानी मार्मिक है, संजीदा भी है। दो नेत्रहीन कपल रोहन भटनागर (रितिक रोशन) और सुप्रिया ...

READ MORE +
RAEES REVIEW: ज्यादा दिमाग लगाने की जरूरत ही नहीं है

RAEES REVIEW: ज्यादा दिमाग लगाने की जरूरत ही नहीं है

0

राहुल ढोलकिया की फिल्म 'रईस' रिलीज हो गई, लेकिन फिल्म देखकर जब आप बाहर निकलेंगे, तो लगेगा कि क्यों देखी यह फिल्म। इस फिल्म को देखने के लिए न तो आपको दिमाग लगाने की जरूरत है और न ...

READ MORE +
REVIEW: दमदारी का अभाव हर तरफ है

REVIEW: दमदारी का अभाव हर तरफ है

0

बॉलीवुड में दाउद पर कई फिल्में आईं है। हर बार की तरह कॉफी विद डी भी निराश करती है। क्यों कि किसी के पास दाउद का सही फिल्मांकन नहीं है। दाउद के बारे में सच-झूठ का इतना घालमेल हो ...

READ MORE +
Haraamkhor Review: देखना है तो नवाज के लिए देखें

Haraamkhor Review: देखना है तो नवाज के लिए देखें

0

हरामखोर फिल्म का टाइटल और नवाजुद्दीन सिद्दिकी का नाम भले ही आकर्षित करे मगर फिल्म निराश करती है। इसमें न तो इमोशन हैं और न ही टेंशन। उस पर अगर आप सोचें कि इनके बगैर शिक्षक और ...

READ MORE +
Ok jaanu Review: बिना देर किए जाइये और देख कर आइये

Ok jaanu Review: बिना देर किए जाइये और देख कर आइये

0

अगर कुछ दिन पहले रिलीज हुई रणवीर सिंह और वाणी कपूर की फिल्म बेफिकरे जैसी फिल्में आपको पसंद हैं, तो ओके जानू आपको खूब पसंद आएगी। फिल्म के गाने और प्रोमो को देखकर जो कैमेस्ट्री ...

READ MORE +
REVIEW: हर तरफ दंगल है, हर जुबां पर दंगल है

REVIEW: हर तरफ दंगल है, हर जुबां पर दंगल है

0

ऐसा नहीं कि खेलों पर आधारित या कुश्ती पर आधारित फिल्में पहले कभी नहीं बनी। फिल्में बनी भी हैं और चली भी हैं, लेकिन दंगल तो 'दंगल' है। डायरेक्टर नितेश तिवारी के जीवन की श्रेष्ठ ...

READ MORE +